Friday, February 17, 2017

Hamse kabhi khafa nahi hote

Hamse kabhi khafa nahi hote

Jo rehte hain dil me wo kabhi Juda nahi hote,
Kuch ehsaas dil ke lafzo se Bayaan nhi hote,
Ek hasrat hai ki hum bhi unko Manaye kabhi,
Aur ek wo hain ke hamse kabhi khafa nahi hote.

तू जो नहीं तो बिन तेरे शामें उदास हैं

तू जो नहीं तो बिन तेरे शामें उदास हैं

तू जो नहीं तो बिन तेरे शामें उदास हैं,
ढूंढें तुझे कहाँ कहाँ आँखें उदास हैं ,
इक चाँद ही नहीं है जो पूछे तेरा पता,
देखा नहीं है जो तुझे मेरी राहें उदास हैं..

लेकिन इस टूटे दिल को मैं समझा नहीं सकता..

लेकिन इस टूटे दिल को मैं समझा नहीं सकता..  

उसकी यादों को किसी कोने में छुपा नहीं सकता,
उसके चेहरे की मुस्कान कभी भुला नहीं सकता,
मेरा बस चलता तो उसकी हर याद को भूल जाता,
लेकिन इस टूटे दिल को मैं समझा नहीं सकता..  

कोई मिलता ही नहीं हमसे हमारा बनकर

कोई मिलता ही नहीं हमसे हमारा बनकर

कोई मिलता ही नहीं हमसे हमारा बनकर,
वो मिले भी तो एक किनारा बनकर,
हर ख्वाब टूट के बिखरा काँच की तरह,
बस एक इंतज़ार है साथ सहारा बनकर..  

सदीयो से जागी आँखो को एक बार सुलाने आ जाओ

सदीयो से जागी आँखो को एक बार सुलाने आ जाओ

सदीयो से जागी आँखो को एक बार सुलाने आ जाओ,
माना की तुमको प्यार नहीं नफरत ही जताने आ जाऔ,
जिस मोङ पे हमको छोङ गये हम बैठे अब तक सोच रहे,
क्या भुल हुई क्यो जुदा हुए बस यह समझाने आ जाओ..  

दर्द से हाथ न मिलाते तो और क्या करते

दर्द से हाथ न मिलाते तो और क्या करते

दर्द से हाथ न मिलाते तो और क्या करते,
गम में आंसू न बहते तो और क्या करते,
उसने मांगी थी हमसे रौशनी की दुआ,
हम अपना दिल न जलाते तो और क्या करते..  

Rote rahe tum bhi rote rahe hum bhi

Rote rahe tum bhi rote rahe hum bhi

Rote rahe tum bhi rote rahe hum bhi,
Kehte rahe tum bhi aur kehte rahe hum bhi,
Na jane iss jamane ko hamare ishq se kya narazgi thi,
Bas samajhte rahe tum bhi aur samajhte rahe hum bhi.

Iss dard ka koi marham nahi

Iss dard ka koi marham nahi

Woh hume bhool bhi jaye toh koi ghum nahi,
Jana unka jaan jane se bhi kam nahi,
Jane kaise jakhm diye hai usne iss dil ko,
Ki har koi kehta hai ki iss dard ka koi marham nahi.

Kehte ho ke chubna chor de

Kehte ho ke chubna chor de

Jee nahi sakta to jeene ki tamanna chor de,
Behte behte thehar jaye woh dariya chor de,
Phool tha mai mujhko ek kanta bana kar rakh diya,
Aur ab kante se kehte ho ke chubna chor de.

Mujhe parwah hai usme rahne wale ki…

Mujhe parwah hai usme rahne wale ki…

Agar mai mar jaau to mujhe jala dena,
Magar mujhme se mera dil nikal lena,
Mujhe parwah nahi dil jal jane ki,
Mujhe parwah hai usme rahne wale ki…!

Follow by Email to Indian Sayari